स्वयं प्रभा (फ्री ऑनलाइन कोर्स) स्कीम योजना क्या हैं [पंजीयन/ रजिस्ट्रेशन, लॉगिन] Swayam Prabha Scheme in Hindi [Free Online Courses, Teachers Training, Login, Registration, DTH Channel List]

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने छात्रों के लिए एक नई योजना शुरू की है. इस योजना से सरकार छात्रों को मुफ्त में ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करेगी. सरकार की ये नई पहल ‘स्वयं’ (SWAYAM), देश के हर छात्र की उनकी पढ़ाई में मदद करने के लिए शुरू की गई है. आप स्वयं की वेबसाइट पर जाकर किसी भी विषय के बारे में पढ़ सकते हैं. इतना ही नहीं मुफ्त ऑनलाइन शिक्षा के अलावा स्वयं के 32 डीटीएच चैनल के जरिए भी आप पढ़ाई कर सकेंगे, जो कि निशुल्क चैनल होंगे. इस योजना के तहत स्कूल के छात्रों से लेकर कॉलेज में पढ़ रहे छात्रों की मदद की जाएगी. देश भर से लगभग 1,000 से अधिक शिक्षकों ने इन पाठ्यक्रमों को तैयार करने में अपना योगदान दिया है.

मानव संसाधन विकास मंत्रालय और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने माइक्रोसॉफ्ट की मदद से स्वयं की वेबसाइट को विकसित किया है. इतना ही नहीं स्वयं कुल 2000 पाठ्यक्रम की मेजबानी करने में सक्षम है. 9वीं कक्षा से लेकर स्नातकोत्तर तक के सभी छात्र स्वयं जाकर अपने किसी भी विषय से जुड़ी वीडियो देख सकते हैं.

स्वयं फ्री ऑनलाइन कोर्स स्कीम के लांच की जानकारी (Swayam Free Online Courses Scheme Launched Details)

क्र. म.जानकारी बिंदु (Information Points)योजना की जानकारी (Scheme Information)
1योजना का नाम (Scheme Name)स्वयं फ्री योजना [ऑनलाइन स्कीम]
2योजना की शुरुआत (Launched By)प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
3योजना का लांच (Launched Date)2017
4योजना की घोषणा (Scheme Announcement)2016
5योजना की देखरेख (Scheme Supervisor)मानव संसाधन विकास मंत्रालय

स्वयं योजना के उद्देश्य (Swayam Scheme – Objective)

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के छात्रों और पिछड़े समाज के वर्गों के छात्रों को अच्छी शिक्षा प्रदान करना है. स्वयं की मदद से ये छात्र बिना किसी खर्चे के डर से अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे.
  • अभी भी ऐसे कई छात्र हैं, जो कि डिजिटल क्रांति से जुड़ नहीं पाएं हैं. ऐसे में इस योजना के आने से ये छात्र कंप्यूटर और नेट जैसी सुविधा से जुड़ सकेंगे.
  • स्वयं की मदद से देश के दूरदराज के हिस्सों में रह रहे छात्रों की उनकी पढ़ाई में मदद की जा सकेगी. जिन छात्रों के पास शिक्षा हासिल करने के लिए अच्छे साधन मौजूद नहीं हैं. उनके लिए स्वयं योजना काफी लाभदायक साबित होगी.
  • स्वयं का सबसे बड़ा मकसद देश के हर छात्र को देश के अच्छे शिक्षकों द्वारा शिक्षा प्रदान करवाना है. छात्र चाहे देश के किसी भी कोने में क्यों ना हो, उसको इस योजना के जरिए अच्छी शिक्षा मुफ्त में दी जा सकती है.

कैसे तैयार किया जाएगा पाठ्यक्रम-

स्वयं में पढ़ाया जाने वाला पाठ्यक्रम को एनपीटीईएल, यूजीसी, सीईसी, एनसीओआरटी और एनआईओएस, इग्नू, आईआईएमबी के द्वारा तैयार किया जाएगा. इन सातों के बीच बांटे गए विषय पर इन सबको छात्रों के लिए एक अच्छा पाठ्यक्रम तैयार करना होगा. जहां एनपीटीईएल (NPTEL) इंजीनियरिंग से जुड़े विषय पर कार्य करेगी. वहीं स्नातकोत्तर शिक्षा के लिए यूजीसी (UGC), अंडर-ग्रेजुएट शिक्षा के लिए सीईसी (CEC), स्कूल शिक्षा के लिए एनसीईआरटी (NCERT) और एनआईओएस (NIOS), स्कूल के छात्रों के लिए इग्नू(IGNOU) और प्रबंधन अध्ययन के लिए आईआईएमबी (IIMB) पाठ्यक्रम तैयार करेगी. इनके द्वारा तैयार किए गए पाठ्यक्रम को ऑनलाइन और टीवी के द्वारा पढ़ा जा सकेगा.

स्वयं योजना के तहत दी जाने वाली सुविधा

  • वीडियो व्याख्यान- आपको स्वयं की वेबसाइट पर कई विषयों से जुड़े हुए व्याख्यान मिलेंगे. अगर आपको किसी विषय में कुछ समझ नहीं आ रहा है, तो आप इन व्याख्यान की मदद से अपने संदेह को दूर कर सकते हैं.
  • डाउनलोड का भी है ऑप्शन – वीडियो व्याख्यान के अलावा आपको स्वयं की वेबसाइट पर अध्ययन सामग्री भी मिलेगी. जिसको आप डाउनलोड कर सकते हैं और जब चाहें पढ़ सकते हैं. ये अध्ययन सामग्री देश के सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों द्वारा तैयार की गई होगी.
  • आत्म मूल्यांकन परीक्षण- व्याख्यान और अध्ययन सामग्री को अच्छे से देखने और पढ़ने के बाद आप को एक आत्म मूल्यांकन टेस्ट देना होगा. ऑनलाइन दिए गए इस टेस्ट के जरिए आपको पता चल जाएगा कि आपको क्या-क्या समझ आ गया है और क्या नहीं.
  • ऑनलाइन पूछ सकेंगे अपने सवाल- अगर आपको कुछ समझ नहीं आ रहा है या किसी चीज को लेकर आपके मन में कोई संदेह है, तो आप ऑनलाइन इसकी चर्चा शिक्षकों से कर सकते हैं.
  • इस योजना के तहत सम्बंधित मंत्रालय और केन्द्रीय सरकार ने छात्रों को मुफ़्त में कोर्सेज प्रदान करने के लिए मुफ़्त वेब पोर्टल की शुरुआत की है. इस विशाल ओपन ऑनलाइन कोर्सेज का विकास कई विषयों को कवर करने के उद्देश्य से किया गया है.
  • यह मुफ़्त वेब पोर्टल छात्रों को कम से कम 500 अलग – अलग कोर्सेज का ऑफर दे रहा है. इस योजना को और विशाल बनाने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय बहुत जल्द एक नए वेब पोर्टल को शुरू करने की भी योजना बना रहा है.
  • इस योजना की खास बात यह है कि यदि आपको स्कूल, कॉलेज एवं विश्वविद्यालयों की कक्षाओं में कवर किये गए लेसन से संतुष्टि ना हो या आपको अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता हो, तो आप इस ऑनलाइन पोर्टल में रजिस्टर हो सकते हैं. छात्रों के लिए इसके तहत किसी भी विषय या कोर्सेज के लिए आवेदन करना संभव है.
  • यदि किसी विद्यार्थी को उसके किसी विषय में परेशानी हो तो वे तुरंत ही इसमें रजिस्टर कर उसी विषय या कोर्स के लिए तत्काल सहायता प्राप्त कर सकते हैं. इस वेबपोर्टल को अकेडमिक स्तर पर अतिरिक्त सहायता के रूप में माना जा सकता है.
  • स्वयं प्लेटफॉर्म, एमएचआरडी और एआईसीटीई द्वारा विकसित किया गया है, जिसमें माइक्रोसॉफ्ट की मदद से 2000 कोर्सेज और विभिन्न स्ट्रीमों में 80000 घंटे सीखने की सुविधा प्रदान की गई है. इसमें इंजीनियरिंग, कानून, पोस्ट – ग्रेजुएट एवं अंडर – ग्रेजुएट कोर्सेज और कुछ अन्य पेशेवर कोर्सेज शामिल हैं.
  • यह योजना आईटी प्लेटफॉर्म के माध्यम से लागू की गई है, जिसमें सभी कोर्सेज ऑनलाइन प्रदान किये जायेंगे. और साथ ही इसे 9 वीं कक्षा से पोस्ट ग्रेजुएट तक की कक्षाओं तक किसी भी समय और कहीं भी पहुँचाया जा सकता है.
  • यह एक डिजिटल तकनीक है जोकि कक्षाओं में उपस्थित नहीं हो पाने वाले छात्रों को अच्छे शिक्षकों द्वारा सीखने के लिए सक्षम बनाती है. ऑनलाइन कोर्सेज एक इंटरैक्टिव लर्निंग अनुभव भी प्रदान करते हैं, जिसके माध्यम से देश के दूरस्थ हिस्सों में भी छात्र शिक्षकों द्वारा लाभ उठा सकते हैं.

स्वयं फ्री ऑनलाइन कोर्स स्कीम के लिए पात्रता मापदंड (Swayam Free Online Courses Scheme Eligibility Criteria)

इस योजना के तहत रजिस्टर होने के लिए आपको निम्न पात्रता मापदंड को अपनाने की आवश्यकता है.
  • इस योजना के तहत मिलने वाली सहायता का फायदा लेने के लिए यह सबसे जरुरी हैं कि आवेदन करने वाला छात्र भारत का मूल निवासी हो.
  • यह योजना केवल उन विषयों को कवर करने में आपको सहायता करेगी, जो पहले से ही कोर्स का हिस्सा हैं और जो कक्षा 9 वीं तक पढ़ाया जाता है.
  • यह वेब पोर्टल किसी भी कोर्स के लिए सहायता लेने के लिए इस्तेमाल किया जाता है जिसमें स्कूल, जूनियर – सीनियर कॉलेज और विश्व विद्यालय में ग्रेजुएट, पोस्ट – ग्रेजुएट या अंडर – ग्रेजुएट स्तर के कोर्स को कवर किया गया है.
  • इस योजना में रजिस्टर होने के लिए यह भी निश्चित किया गया है कि छात्र 9 वीं कक्षा या उससे ऊपर की कक्षा में पढ़ाई कर रहा हो.

प्रमाणपत्र के लिए करवाना होगा पंजीकरण (Registration for Certificate)

स्वयं के माध्यम से शिक्षार्थियों को मुफ्त में शिक्षा दी जाएगी. हालांकि अगर कोई छात्र प्रमाणपत्र लेना चाहता है तो उसे अपने आपको स्वयं की वेबसाइट पर पंजीकृत करवाना होगा. साथ ही उस छात्र से थोड़ा शुल्क भी लिया जाएगा. प्रत्येक पाठ्यक्रम के अंत में छात्रों का परीक्षा के माध्यम से आकलन होगा और परीक्षा में सुरक्षित अंक /ग्रेड छात्रों के शैक्षणिक रिकॉर्ड में स्थानांतरित कर दिए जाएंगे. पाठ्यक्रम के सफल समापन पर उस छात्र को एक प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा.

स्वयं फ्री ऑनलाइन कोर्स स्कीम के लिए अधिकारिक वेबसाईट (Swayam Free Online Courses Scheme Official Website)

  • यदि आप इस योजना में रजिस्टर होने के बारे में सोच रहे हैं तो आप स्वयं की अधिकारिक वेबसाइट https://swayam.gov.in/ पर लॉगऑन कर सकते हैं.
  • जैसे ही आप इस वेबसाइट पर विजिट करेंगे तो आप अपनी स्क्रीन में सबसे ऊपर बाएं हाथ तरफ “मानव संसाधन विकास मंत्रालय – एमएचआरडी” लिखा हुआ देखेंगे.
  • इसके जस्ट नीचे आप एआईसीटीई लोगो देख सकते है. यदि ये दोनों चीजें दी हुई हैं और आपने उस पर क्लिक किया है तो आप सही स्वयं पेज पर पहुँच जायेंगे.

कैसे होगा पंजीकरण एवं लॉगिन (SWAYAM Scheme Registration Process Login in hindi)

स्वयं पर अपने आपको पंजीकृत करवाने के लिए आपको निम्नलिखित चीजे करनी होगी-

चरण 1: आवेदक को अपने आप को इस योजना के अंतर्गत पंजीकृत कराने के लिए https://swayam.gov.in वेबसाइट पर जाना होगा, ये एक स्वयं की आधिकारिक वेबसाइट है.

चरण 2: वेबसाइट पर जाने के बाद आवेदक को सीधे हाथ की तरफ ऊपर कोने पर एक बटन दिखाई देगी , जिस पर ” Register ” लिखा होगा, जिसको आवेदक को दबाना है.

चरण 3: बटन दबाने के बाद एक नया पृष्ठ खुल जाएगा, जिसमें एक “Sign Up” का बटन आएगा, जिसमें क्लिक करके फार्म को ओपन करना होगा.

चरण 4: जिसके बाद एक फॉर्म भरने को कहा जाएगा. फॉर्म भरने के बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा. फॉर्म सबमिट हो जाने के बाद आपका सफलतापूर्वक पंजीकरण हो जाएगा. जिसके बाद आप किसी भी विषय से जुड़े वीडियो और अध्ययन सामग्री को पढ़ सकेंगे.

टीवी से भी जुड़ी है स्वयं योजना –

ऑनलाइन के अलावा आप टीवी के जरिए भी स्वयं योजना का फायदा उठा सकते हैं. डीडी फ्री डिश या डिश टीवी में आप स्वयं प्रभा चैनलों को मुफ्त में देख सकते हैं. हर रोज चार घंटे इन चैनलों पर नए व्याख्यान आएंगे. ये व्याख्यान देश के सर्वश्रेष्ठ शिक्षकों द्वारा तैयार किए गए होंगे.

स्वयं योजना से जुड़े 32 चैनलों की सूची (List of 32 channel of Swayam Scheme)

  • यह वेब पोर्टल छात्र द्वारा चुने गए कोर्सेज के आधार पर उनके लिए 2 अलग – अलग हिस्सों में मुफ़्त ऑनलाइन कोर्सेज की पेशकश करेगा.
  • यदि कोई छात्र इंजीनियरिंग कर रहा है तो यह निश्चय किया गया है कि उन्हें एनपीटीईएल द्वारा कोर्स की सहायता और अन्य संसाधन प्रदान किये जायेंगे. यह एनपीटीईएल, सरकार द्वारा शुरू किये लीडिंग अंडरटेकिंग में से एक हैं, जिसमे इंजीनियरिंग शाखा में विभन्न क्षेत्रों में प्रवेश लेने वाले छात्रों को पढाने पर पूरा ध्यान केन्द्रित किया जायेगा.
  • यदि कोई छात्र अंडर ग्रेजुएट के लिए किसी भी यूजीसी कोर्सेज या सीईसी कोर्स के लिए रजिस्टर होता है तो उनके लिए यह निश्चय किया गया है कि उन्हें यूजीसी या सीईसी विभाग द्वारा पेशेवर शिक्षकों से पढ़ाई के लिए कोर्स की सहायता और अन्य संसाधन प्रदान किये जायेंगे.
  • यह किसी भी छात्र के लिए एप्लीकेबल हैं जो एनआईओएस या एनसीईआरटी एजुकेशन के लिए स्कूल में पढ़ाई कर रहे हैं. उन्हें एनआईओएस या एनसीईआरटी विभाग द्वारा शिक्षकों और पेशेवरों से सभी संभावित सहायता प्रदान करने का ऑफर दिया जायेगा.
  • इसके अलावा आपको यह भी दिमाग में रखने की जरुरत है कि यह वेब पोर्टल कई कोर्सेज को पेश करता है जोकि वर्तमान में आईजीएनओयू द्वारा पेश किये जाते हैं.
चैनल विभाग विषय
चैनल01 सीईसी / यूजीसी मानविकी -1, भाषा और साहित्य.
चैनल 02 सीईसी / यूजीसी मानव-2, कला, इतिहास, फिलोसोफी और संबंधित विषय.
चैनल 03 सीईसी / यूजीसी सोशल साइंस -1, समाज विज्ञान, राजनीतिक विज्ञान और संबंधित विषय
चैनल 04 सीईसी / यूजीसी सोशल साइंस – 2, एजुकेशन, साइकोलॉजी, होम साइंस और रिलेटेड साब्जेक्ट्स
चैनल 05 सीईसी / यूजीसी सोशल साइंस – 3, प्रबंधन, पुस्तकालय विज्ञान, सूचना विज्ञान और संबंधित विषय
चैनल 06 सीईसी / यूजीसी सोशल साइंस – 4, कानून, कानूनी अध्ययन, मानव अधिकार और संबंधित विषय
चैनल 07 सीईसी / यूजीसी अर्थशास्त्र , कॉमर्स और फाइनेंस
चैनल 08 सीईसी / यूजीसी भौतिक विज्ञान, गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान और संबंधित विषय
चैनल 09 सीईसी / यूजीसी जीवन विज्ञान, बोतैनी, जूलॉजी, जैव-विज्ञान और संबंधित विष य
चैनल 10 सीईसी / यूजीसी एप्लाइड साइंसेस, एलीयड भौतिक और रासायनिक विज्ञान और संबंधित विषय
चैनल 11 एनपीटीईएलरसायन इंजीनियरिंग, रसायन विज्ञान और संबंधित विषय
चैनल 12 एनपीटीईएल सिविल इंजीनियरी और संबंधित विषय
चैनल 13 एनपीटीईएल कम्प्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग
चैनल 14 एनपीटीईएल इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रानिक्स और संचार इंजीनियरिंग और संबंधित विषय
चैनल 15 एनपीटीईएल इंजीनियरिंग साइंस और इंजीनियरिंग से जुड़े सामान्य विषय
चैनल 16 एनपीटीईएल मानविकी, सामाजिक विज्ञान और प्रबंधन
चैनल 17 एनपीटीईएल मैकेनिकल इंजीनियरी और संबंधित विषय
चैनल 18 एनपीटीईएल गणित, भौतिकी, मेटलगार्जी और संबंधित विषय
चैनल 19 आईआईटी पालजीव विज्ञान
चैनल 20 आईआईटी पाल रसायन
चैनल 21 आईआईटी पाल गणित
चैनल 22 आईआईटी पाल भौतिकी
चैनल 23 इग्नूस्वतंत्र कला और मानवजाति
चैनल 24 इग्नू कृषि, वोकेशनल और संबद्ध विज्ञान
चैनल 25 इग्नू संस्कृति
चैनल 26 इग्नू राज्य ओपन यूनिवर्सिटी कार्यक्रम
चैनल 27 एनआईओएसमाध्यमिक स्कूल एजुकेशन
चैनल 28 एनआईओएसउच्च माध्यमिक स्कूल एजुकेशन
चैनल 29 क्यूईईक्यूईई 1 (इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी में लाइव क्लासेस)
चैनल 30 एनपीटीईएलगणित
चैनल 31 एनसीईआरटीस्कूल एंड टीचर एजुकेशन
चैनल 32 इग्नू और एनआईओएसटीचर एजुकेशन

स्वयं फ्री ऑनलाइन कोर्स स्कीम का क्रियान्वयन (Swayam Free Online Courses Scheme Implementation)

इस योजना के क्रियान्वयन के कई चरण हैं. मानव संसाधन विकास मंत्रालय इसे सबसे अच्छा बनाने की कोशिश कर रहा है, ताकि इसके क्रियान्वयन चरण में किसी भी इशू को तेजी से और विधिवत रूप से संबोधित किया जा सके. उनका कहना हैं कि छात्र जैसे ही इस पोर्टल में एनरोल करेंगे वे अपनी पढ़ाई शुरू कर सकते हैं. इस पोर्टल में पढ़ाई करने के लिए अलग – अलग पढ़ाई सामग्री जैसे टेक्स्ट्स, वीडियोस और अन्य प्रोजेक्ट आदि उपलब्ध होंगे.

यह सुनिश्चित करने के लिए कि पढाई की सामग्री और कक्षाओं का ठीक तरीके से आयोजन किया जा रहा है, दिल्ली और अन्य प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के प्रोफेसर कक्षाएं आयोजित करेंगे. इस तरह यह प्रोग्राम अपने उद्देश्य को प्राप्त करेगा. इसके लिए आपको प्रोफेसर द्वारा दिए जाने वाले कई असाइनमेंट को भी पूरा करना पड़ेगा. आप एक कोर्स को सफलतापूर्वक ख़त्म कर लेने के बाद उसी कोर्स के लिए प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए आवेदन भी कर सकते हैं. ताकि उस प्रमाण पत्र का उपयोग आप आगे किसी नौकरी में प्रवेश लेने के लिए कर सकें.

स्वयं फ्री ऑनलाइन कोर्स स्कीम के लिए एप (Swayam Free Online App)

इस योजना के लिए एक एप भी बनाया गया है, जिसे आप अपने स्मार्ट फोन में गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं. इसे डाउनलोड करने के लिए आप इस लिंक https://play.google.com/store/apps/details?id=in.gov.swayam.app&hl=en का भी उपयोग कर सकते हैं. यह एप अभी केवल एंड्राइड फोन पर डाउनलोड की जा सकती है.

इस योजना के अनुसार सरकार छात्रों को डिजिटल प्लेटफॉर्म में भी लाना चाहती है, और साथ ही शिक्षा से वंचित रहने वाले छात्रों तक शिक्षा पहुँचाना चाहती है. ताकि देश के सभी छात्र शिक्षित हो सकें.इस योजना की मदद से अब छात्रों को ट्यूशन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी, जिससे उनके काफी पैसे बच सकेंगे. इतना ही नहीं छात्र इन पैसों का इस्तेमाल अच्छे कॉलेजों में दाखिला लेने के लिए कर सकेंगे. वहीं इस योजना से देश के अच्छे शिक्षकों को, देश के हर छात्र के साथ जोड़ा जा सकेगा. ये शिक्षक छात्रों को एक बेहतरीन शिक्षा दे सकेंगे.

Update

04/09/2018

नई दिल्ली में हालही में IITs की कांउसिल बैठक आयोजित की गई. इस बैठक का आयोजन केन्द्र के मानव संसाधन विकास विभाग के तहत किया गया. इस बैठक की देखरेख केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर द्वारा की गई और उन्होंने यह घोषणा की कि जल्द ही आईआईटी – पीएएल जारी किया जायेगा, जिसमें उन उम्मीदवारों को शामिल किया जायेगा जोकि जेईई परीक्षा में बैठने के योग्य है. यह कार्यक्रम फाइनल परीक्षा की तैयारी के लिए JEE उम्मीदवारों की मदद करता है. यह सहायता स्वयं पोर्टल पर उपलब्ध होगी. इसके साथ ही आईआईटी और इंजीनियरिंग संस्थानों के विकास से सम्बंधित कुछ अन्य निर्णय भी इस बैठक में लिये गए हैं.