मौर्य साम्राज्य का इतिहास और जानकारी | Maurya Vansh History in Hindi

Maurya Rajvansh / मौर्य राजवंश प्राचीन भारत का एक शक्तिशाली एवं महान राजवंश था। इसने 137 वर्ष भारत में राज किया। इसकी स्थापना का श्रेय चन्द्रगुप्त मौर्य और उसके मन्त्री आचार्य चाणक्य को दिया जाता है, जिन्होंने नंदवंश के सम्राट घनानन्द को पराजित किया। यह साम्राज्य पूर्व में मगध राज्य में गंगा नदी के मैदानों से शुरू हुआ। इसकी राजधानी पाटलिपुत्र (अब का पटना) थी। मोर्य साम्राज्य 52 लाख वर्गकिलोमीटर तक फैला था।

मौर्य वंश की स्थापना – Maurya Vansh ki Sthapna 

Contents

  • 1 मौर्य वंश की स्थापना – Maurya Vansh ki Sthapna 
    • 1.1 पतन –
    • 1.2 सैन्य व्यवस्था –
    • 1.3 प्रशासन –
  • 2 मोर्य शासकों की सूची – Maurya Empire in Hindi
  • 3 मौर्य शासकों का इतिहास – History of Maurya Samaj in Hindi
    •  
  • 3.0.1 चंद्रगुप्त मौर्य (Chandragupta Maurya)
  • 3.0.2 बिन्दुसार (Bindusara)
  • 3.0.3 सम्राट अशोक (Samrat Ashoka)
  • 3.0.4 दशरथ मौर्य (Dasharatha Maurya)
  • 3.0.5 सम्प्रति (Samprati)
  • 3.0.6 शालिसुक (Shalishuka)
  • 3.0.7 देववर्मन (Devvarman)
  • 3.0.8 शतधन्वन् मौर्य (Shatadhanvan Maurya)
  • 3.0.9 बृहद्रथ मौर्य (Brihadratha Maurya) – Maurya vansh ka antim shasak kaun tha
  • 4 Maurya Samrajya Objective Question in Hindi

325 ईसापूर्व में उत्तर पश्चिमी भारत (आज के पाकिस्तान का लगभग सम्पूर्ण इलाका) सिकन्दर के क्षत्रपों का शासन था। जब सिकन्दर पंजाब पर चढ़ाई कर रहा था तो एक ब्राह्मण जिसका नाम चाणक्य था (कौटिल्य नाम से भी जाना गया तथा वास्तविक नाम विष्णुगुप्त) मगध को साम्राज्य विस्तार के लिए प्रोत्साहित करने आया। उस समय मगध अच्छा खासा शक्तिशाली था तथा उसके पड़ोसी राज्यों की आंखों का काँटा। पर तत्कालीन मगध के सम्राट घनानन्द ने उसको ठुकरा दिया। उसने कहा कि तुम एक पंडित हो और अपनी चोटी का ही ध्यान रखो “युद्ध करना राजा का काम है तुम पंडित हो सिर्फ पंडिताई करो” तभी से चाणक्य ने प्रतिज्ञा लिया की धनानंद को सबक सिखा के रहेगा।

मौर्य प्राचीन क्षत्रिय कबीले के हिस्से रहे है। प्राचीन भारत छोटे -छोटे गणों में विभक्त था। उस वक्त कुछ ही प्रमुख शासक जातिया थी जिसमे शाक्य, मौर्य का प्रभाव ज्यादा था। चन्द्रगुप्त उसी गण प्रमुख का पुत्र था जो की चन्द्रगुप्त के बाल अवस्था में ही योद्धा के रूप में मारा गया। चन्द्रगुप्त में राजा बनने के स्वाभाविक गुण थे ‘इसी योग्यता को देखते हुए चाणक्य ने उसे अपना शिष्य बना लिया, एवं एक सबल राष्ट्र की नीव डाली जो की आज तक एक आदर्श है।

इसके बाद भारत भर में जासूसों (गुप्तचर) का एक जाल सा बिछा दिया गया जिससे राजा के खिलाफ गद्दारी इत्यादि की गुप्त सूचना एकत्र करने में किया जाता था – यह भारत में शायद अभूतपूर्व था। एक बार ऐसा हो जाने के बाद उसने चन्द्रगुप्त को यूनानी क्षत्रपों को मार भगाने के लिए तैयार किया। इस कार्य में उसे गुप्तचरों के विस्तृत जाल से मदद मिली। मगध के आक्रमण में चाणक्य ने मगध में गृहयुद्ध को उकसाया। उसके गुप्तचरों ने नन्द के अधिकारियों को रिश्वत देकर उन्हे अपने पक्ष में कर लिया। इसके बाद नन्द शासक ने अपना पद छोड़ दिया और चाणक्य को विजयश्री प्राप्त हुई। नन्द को निर्वासित जीवन जीना पड़ा जिसके बाद उसका क्या हुआ ये अज्ञात है। चन्द्रगुप्त मौर्य ने जनता का विश्वास भी जीता और इसके साथ उसको सत्ता का अधिकार भी मिला।

चन्द्रगुप्त मौर्य ने 322 ईसा पूर्व में मौर्य साम्राज्य की स्थापना की और तेजी से पश्चिम की तरफ़ अपने साम्राज्य का विकास किया। उसने कई छोटे-छोटे क्षेत्रीय राज्यों के आपसी मतभेदों का फ़ायदा उठाया, जो सिकन्दर के आक्रमण के बाद पैदा हो गये थे। उसने यूनानियों को मार भगाया। चंद्रगुप्त मौर्य द्वारा बुरी तरह पराजित होने के पश्चात सिकन्दर के सेनापति सेल्यूकस को अपनी कन्या का विवाह चंद्रगुप्त से करना पड़ा। मेगस्थनीज इसी के दरबार में आया था। चंद्रगुप्त की माता का नाम ‘मुरा’ था। इसी से यह वंश ‘मौर्य वंश’ कहलाया।

316 ईसा पूर्व तक मौर्य वंश ने पूरे उत्तरी पश्चिमी भारत पर अधिकार किया था। चंद्रगुप्त के बाद उसके पुत्र बिन्दुसार ने 298 ई.पू. से 273 ई. पू. तक राज्य किया। बिन्दुसार के बाद उसका पुत्र अशोक 273 ई.पू. से 232 ई.पू. तक गद्दी पर रहा। अशोक के समय में कलिंग का भारी नरसंहार हुआ, जिससे द्रवित होकर उसने बौद्ध धर्म ग्रहण कर लिया। 316 ईसा पूर्व तक मौर्य वंश ने पूरे उत्तरी-पश्चिमी भारत पर अधिकार कर लिया था। अशोक के राज्य में मौर्य वंश का बेहद विस्तार हुआ। सम्राट अशोक के कारण ही मौर्या साम्राज्य सबसे महान और शक्तिशाली बनकर विश्वभर में प्रसिद्ध हुआ।

Join Us on:

पतन –

अशोक के उत्तराधिकारी अयोग्य निकले। इस वंश का अंतिम राजा बृहद्रथ मौर्य था। 185 ई.पू. में उसके सेनापति पुष्यमित्र शुंग ने उसकी हत्या कर डाली और शुंग वंश नाम का एक नया राजवंश आरंभ हुआ। इस तरह से मौर्या साम्राज्य का अंत हुवा।

सैन्य व्यवस्था –

भारत में सर्वप्रथम मौर्य वंश के शासनकाल में ही राष्ट्रीय राजनीतिक एकता स्थापित हुइ थी। मौर्य प्रशासन में सत्ता का सुदृढ़ केन्द्रीयकरण था परन्तु राजा निरंकुश नहीं होता था। मौर्य काल में गणतन्त्र का ह्रास हुआ और राजतन्त्रात्मक व्यवस्था सुदृढ़ हुई। कौटिल्य ने राज्य सप्तांक सिद्धान्त निर्दिष्ट किया था, जिनके आधार पर मौर्य प्रशासन और उसकी गृह तथा विदेश नीति संचालित होती थी – राजा, अमात्य जनपद, दुर्ग, कोष, सेना और, मित्र।

सैन्य व्यवस्था छः समितियों में विभक्‍त सैन्य विभाग द्वारा निर्दिष्ट थी। प्रत्येक समिति में पाँच सैन्य विशेषज्ञ होते थे। पैदल सेना, अश्‍व सेना, गज सेना, रथ सेना तथा नौ सेना की व्यवस्था थी। सैनिक प्रबन्ध का सर्वोच्च अधिकारी अन्तपाल कहलाता था। यह सीमान्त क्षेत्रों का भी व्यवस्थापक होता था। मेगस्थनीज के अनुसार चन्द्रगुप्त मौर्य की सेना 6 लाख पैदल, 50 हजार अश्‍वारोही, 9 हजार हाथी तथा 8 सौ रथों से सुसज्जित अजेय सैनिक थे।

प्रशासन –

मौर्य साम्राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र (आधुनिक पटना) थी। इसके अतिरिक्त साम्राज्य को प्रशासन के लिए चार और प्रांतों में बांटा गया था। पूर्वी भाग की राजधानी तौसाली थी तो दक्षिणी भाग की सुवर्णगिरि। इसी प्रकार उत्तरी तथा पश्चिमी भाग की राजधानी क्रमशः तक्षशिला तथा उज्जैन (उज्जयिनी) थी। इसके अतिरिक्त समापा, इशिला तथा कौशाम्बी भी महत्वपूर्ण नगर थे। राज्य के प्रांतपालों कुमार होते थे जो स्थानीय प्रांतों के शासक थे। कुमार की मदद के लिए हर प्रांत में एक मंत्रीपरिषद तथा महामात्य होते थे। प्रांत आगे जिलों में बंटे होते थे। प्रत्येक जिला गाँव के समूहों में बंटा होता था। प्रदेशिक जिला प्रशासन का प्रधान होता था। रज्जुक जमीन को मापने का काम करता था। प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गाँव थी जिसका प्रधान ग्रामिक कहलाता था।

मोर्य शासकों की सूची – Maurya Empire in Hindi

क्र.सं. शासक शासन काल
1 चन्द्रगुप्त मौर्य 322 ईसा पूर्व- 298 ईसा पूर्व
2 बिन्दुसार 298 ईसा पूर्व -272 ईसा पूर्व
3 अशोक 273 ईसा पूर्व -232 ईसा पूर्व
4 दशरथ मौर्य 232 ईसा पूर्व- 224 ईसा पूर्व
5 सम्प्रति 224 ईसा पूर्व- 215 ईसा पूर्व
6 शालिसुक 215 ईसा पूर्व- 202 ईसा पूर्व
7 देववर्मन 202 ईसा पूर्व -195 ईसा पूर्व
8 शतधन्वन मौर्य 195 ईसा पूर्व 187 ईसा पूर्व
9 बृहद्रथ मौर्य 187 ईसा पूर्व- 185 ईसा पूर्व

 

मौर्य शासकों का इतिहास – History of Maurya Samaj in Hindi

चंद्रगुप्त मौर्य (Chandragupta Maurya)

चंद्रगुप्त मौर्य (राज: 323-298 ईसा पूर्व) प्राचीन भारत में मौर्य साम्राज्य के पहले संस्थापक थे। वे ऐसे शासक थे जिन्होंने पुरे भारत को एक साम्राज्य के अधीन लाने में सफल रहे। उनका साम्राज्य पूर्व में बंगाल से अफगानिस्तान और बलोचिस्तान तक और पश्चिम के पकिस्तान से हिमालय और कश्मीर के उत्तरी भाग में फैला हुआ था। और साथ ही दक्षिण में प्लैटॉ तक विस्तृत था। भारतीय इतिहास में चन्द्रगुप्त मौर्य के शासनकाल को सबसे विशाल शासन माना जाता है।

बिन्दुसार (Bindusara)

चन्द्रगुप्त मौर्य के पुत्र बिन्दुसार मौर्य साम्राज्य के अगले शासक हुवे। इतिहास में प्रसिद्ध शासक सम्राट अशोक बिन्दुसार के ही पुत्र थे। उन्होंने लगभग 25 सालो तक शासन किया।

सम्राट अशोक (Samrat Ashoka)

सम्राट अशोक भारत के महान शक्तिशाली समृद्ध सम्राटो में से एक थे। वे मौर्य साम्रज्य के शासक बिन्दुसार के पुत्र थे। उन्होंने लगभग 41 सालो तक शासन किया। अशोक मौर्य जो साधारणतः अशोका और अशोका – एक महान के नाम से जाने जाते है।

दशरथ मौर्य (Dasharatha Maurya)

सम्राट अशोका के पोते दशरथ मौर्य उस साम्राज्य के 5 वे शासक थे। दशरथ शाही शिलालेख जारी करने के लिए मौर्य राजवंश के अंतिम शासक थे- इस प्रकार अंतिम मौर्य सम्राट को शिलालेख के सूत्रों से जाना जाता है। उन्होंने लगभग 8 सालो तक शासन किया। दशरथ 224 ईसा पूर्व में मृत्यु हो गयी और उसके बाद उनके चचेरे भाई संप्रति ने इसका उत्तराधिकारी बना लिया।

सम्प्रति (Samprati)

सम्प्रति मौर्य वंश के एक सम्राट थे। वह अशोका के अंधे पुत्र कुणाल के पुत्र थे, और अपने चचेरे भाई दशरथ के बाद मौर्य साम्राज्य के सम्राट के रूप में सफल हुए थे। उन्होंने 9 वर्ष तक शासन किया ।

शालिसुक (Shalishuka)

शालीशूका मौर्य भारतीय मौर्या वंश का शासक था। उन्होंने 215-202 ईसा पूर्व से लगभग 13 सालों तक शासन किया। वह सम्प्रति मौर्य के उत्तराधिकारी थे।

देववर्मन (Dev Varman)

देववर्मन 202-195 ईसा पूर्व शासन करने वाला मौर्य साम्राज्य का सम्राट थे। पुराणों के अनुसार, वह शालिशुक मौर्य के उत्तराधिकारी थे और उन्होंने सात साल तक राज्य किया।

शतधन्वन् मौर्य (Shatadhanvan Maurya)

शतधन्वन् मौर्य मौर्य साम्राज्य के देववर्मन मौर्य के उत्तराधिकारी थे और वे आठ वर्षों तक राज्य करते रहे। अपने समय के दौरान, आक्रमणों के कारण उन्होंने अपने साम्राज्य के कुछ प्रदेशों को खो दिया।

बृहद्रथ मौर्य (Brihadratha Maurya) – Maurya vansh ka antim shasak kaun tha

बृहधृत मौर्य मौर्य साम्राज्य के अंतिम शासक थे। 187-185 ईसा पूर्व तक उन्होनें शासन किया। उन्हें उनकें ही एक मंत्री पुष्यमित्र शुंग ने मार दिया था। जिसने शंग साम्राज्य स्थापित किया।

Maurya Samrajya Objective Question in Hindi

(1). चंद्रगुप्त मौर्य का पुत्र कौन था? – बिंदुसार।
(2). कौटिल्य प्रधानमंत्री थे: – चंद्रगुप्त मौर्य के।
(3). सांची का स्तूप का निर्माण किसने किया था? – अशोक।
(4). निम्नलिखित में से अशोक के किस अभिलेख में बौद्धग्रंथों का उल्लेख किया गया है? – भाब्रू।
(5). मौर्य काल में निम्न में से किस विषय पर सिर्फ राज्य का ही अधिकार था? – खान।
(6). सम्राट अशोक के समकालीन श्रीलंका के शासक कौन थे? – तिस्स।
(7). निम्नलिखित में से किसने सांची के स्तूप का निर्माण करवाया था? – अशोक।
(8). चाणक्य का अन्य नाम क्या था –विष्णुगुप्त।
(9).
सम्राट अशोक की वह पत्नी कौन थी जिसने उसको प्रभावित किया था – कारुवाकी।
(10). नंद वंश के पश्चात मगध पर किस राजवंश ने शासन किया – मौर्य वंश ने।


और अधिक लेख

Please Note :  Morya Vansh History In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे  Comment Box मे करे। Mauryan Empire History & Story In Hindi व नयी पोस्ट डाइरेक्ट ईमेल मे पाने के लिए Free Email Subscribe करे, धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.