हर साल 22 अप्रैल को दुनियाभर में अर्थ डे या पृथ्वी दिवस मनाया जाता है। पर्यावरण संरक्षण को समर्थन देने के लिए इस पहल की शुरुआत 1970 में अमेरिकी सीनेटर गेलोर्ड नेल्सन ने की थी। नेल्सन के आह्वान पर 22 अप्रैल 1970 को लगभग दो करोड़ अमेरिकियों ने पृथ्वी दिवस के पहले आयोजन में भाग लिया था। मगर, अब यह पूरी दुनिया में समान रूप से मनाया जाता है, जिसका मकसद लोगों को धरती और पर्यावरण के प्रति जागुरुक करना है। हर साल इस दिन के लिए एक अलग थीम रखी जाती है। पृथ्वी दिवस 2020 के लिए थीम क्लाइमेट एक्शन यानी जलवायु कार्रवाई है।

एक घटना ने बदल दी थी नेल्सन की सोच

दरअसल, साल 1969 में कैलिफोर्निया के सांता बारबरा में तेल रिसाव हुआ था। 22 जनवरी को समुद्र में तीन मिलियन गैलेन तेल बहते हुए पहुंचा था, जिसकी वजह से 10,000 से ज्यादा सी-बर्ड, डाल्फिन, सील और सी-लायंस की मौत हो गई थी। इस घटना ने नेल्सन काफी प्रभावित हुए थे और इस तबाही ने उन्हें पर्यावरण संरक्षण को लेकर कुछ करने की पहल के लिए प्रेरित किया। आज यह आयोजन दुनिया के 195 से अधिक देशों में होता है। इस कार्यक्रम का मकसद उस धरती को सम्मान देना है, जिसमें हम रहते हैं।

यह खास होगा इस बार

इस दिन लोग धरती की रक्षा करने की शपथ लेते हैं। खास बात यह है कि इस साल अर्थ डे की 50वीं सालगिरह है। इस साल दुनियाभर को चीन से फैले कोरोना वायरस ने अपनी चपेट में ले लिया है। इसकी वजह से लोग घरों में रहने के लिए मजबूर हो गए हैं। लिहाजा, आयोजकों ने कहा है कि लोग घरों में रहते हुए ही डिजिटल तरीके से अर्थ डे को मनाएं, वे ऑनलाइन रैली करें।