Maharashtra board exam 2020:10वीं और 12वीं के मूल्यांकन कार्य में होगी देरी

Maharashtra board exam 2020: महाराष्ट्र एजुकेशन विभाग ने कहा कि एचएससी (HSC) और एसएससी (SSC) की कॉपियों के मूल्यांकन का कार्य एक बार फिर दोबारा शुरू नहीं हो पाया है। विभाग का कहना है कि देश भर में चल रहे लॉकडाउन की वजह से उनके पास कोई साधन नहीं है, जिससे वह कॉपियां परीक्षकों के पास भेज सकें। ऐसे में अब कॉपियों की जांच लॉकडाउन खुलने के बाद ही शुरू हो सकती है।

विभाग का कहना है कि मूल्यांकन जारी रखने के लिए उत्तर पुस्तिकाओं को घर ले जाने के लिए एचएससी और एसएससी परीक्षकों को एक परिपत्र अनुमति जारी किया था। लेकिन शहर में सार्वजनिक परिवहन सेवाओं को निलंबित करने की वजह से टीचर्स के पास कोई विकल्प नहीं है कि वे स्कूल तक पहुंच सकें। इसलिए टीचर्स के पास तक कॉपियां नहीं पहुंची हैं।

हालांकि उम्मीद जताई जा रही थी कि 14 अप्रैल से मूल्यांकन कार्य शुरू हो जाएगा लेकिन दोबारा लॉकडाउन बढ़ने से फिर से काॅपियों की जांच अटक गई है। ऐसे में अब तो फिर से लॉकडाउन खुलने का इंतजार करना पड़ेगा। बता दें कि इस साल 13 लाख से अधिक छात्रों ने एचएससी परीक्षा दी है और 17 लाख छात्रों ने राज्य भर में एसएससी परीक्षा दी है।

बता दें कि हाल ही में महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड ऑफ सेकंडरी एंड हायर एजुकेशन ने दसवीं कक्षा के भूगोल और वोकेशनल विषयों के बचे हुए दो पेपर को कैंसल कर दिया है। राज्य में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण इन पेपर को कैंसल किया गया है। इसके तहत कक्षा 9वीं और 11वीं के सेकंड सेमेस्टर एग्जाम नहीं होंगे। छात्र फर्स्ट टर्म एग्जाम और इंटरनल एग्जाम रिजल्ट के आधार पर अगली कक्षा में प्रमोट होंगे।

इसी तरह दसवीं कक्षा के बचे हुए ज्यॉग्रफी और वोकेशनल विषय के पेपर्स को कैंसल करने का फैसला लिया गया है।’ इन पेपर्स के अंक किस तरह दिए जाएंगे। इसके लिए महाराष्ट्र की स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायवाड ने कहा कि इस संबंध मेंहल बोर्ड को तलाशना होगा। वहीं बोर्ड ने भी पूरा सहयोग करने का आश्वासन दिया है।